कोरोना वायरस (Covid-19 ) coronavirus एक ऐसी वैश्विक महामारी है, जिसने आजकल लगभग संपूर्ण विश्व को अपनी चपेट में ले लिया है। जिससे मानव प्रजाति की चिंता बहुत बढ़ गयी है l चिंता बढ़ने के तीन मुख्य कारण हो सकते हैं –

१. यह एक वैश्विक महामारी है l

२. इसका अभी तक कोई इलाज नहीं मिला है।

३. यह महामारी कब तक रहेगी, नहीं पता चल पा रहा है।

यह भी देखा या सुना जा रहा है कि कई लोग इस महामारी के भय से कई मानसिक बिमारियों से ग्रसित होते जा रहे हैं.

लेकिन क्या चिंता करने से समस्या का समाधान हो जायेगा ? बिलकुल नहीं। तो क्या करें ? आज हम कोरोना वायरस के डर को दूर करने के तीन सरल उपायों पर चर्चा करेंगे-

1. व्यस्त रहें मस्त रहें- Coronavirus

हमें किसी भी बात की चिंता क्यों होती है ? यदि हम इस पर गंभीर विचार करें और मनोविज्ञान का सहारा लें, तो हम पाएंगे की जब हम किसी भी बात या विषय के बारे में लगातार चिंतन करते हैं तो वह बात हमारे मन में बैठने लगती है।

ऐसा क्यों होता है ? ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारा मन एक सेकंड को भी खाली नहीं रह सकता। हम जिस प्रकार की बातों को लगातार सोचेंगे, उसी प्रकार की हमारी मानसिक अवस्था हो जाएगी l इसलिए हमें अपने आपको हमेशा या जितना अधिक हो सके, व्यस्त रखना चाहिए। इससे क्या फायदा होगा ? इससे हमारे मन में कोरोना वायरस से संबंधित चिंतन नहीं होगा या कम से काम होगा। और क्या पता व्यस्त रहने से हम अपने अंदर कोई नया कौशल विकसित कर लें।

2. न्यूज़ देखना कम/बंद कर दें – on Coronavirus

आज कल TRP बढ़ाने के लिए न्यूज़ चैनल बढ़ा चढ़ा कर ख़बरें दिखा रहें है। और इन खबरों को देखने से हमारे मन में डर बैठा जा रहा है। मान लीजिए, आपके क्षेत्र में Covid -19 के अभी उतने मामले नहीं आयें हैं, पर न्यूज़ देखने के कारण हम चिंता से ग्रसित हुए जा रहे हैं।

हम अपने आसपास की या देश दुनिया की न्यूज़ ५ मिनट में भी देख ये सुन सकते हैं l ज़रा हम सोचकर देखें की दिन भर टीवी पर एक प्रकार की खबर को मिलेगा ? इसलिए टीवी /न्यूज़ ना देखने या कम देखने से लाभ अवश्य होगा।

इतना अवश्य है की कभी-कभी मुख्य ख़बरें देख लेना आवश्यक होता है।

3. न डरने का अभ्यास करना Coronavirus

अब आप कहेंगे की वाह ! क्या बात कही है आपने, बड़ी कमlल की बात कही। जरा सोचिये, अभ्यास कितनी बड़ी चीज़ है। सेना का एक जवान जिस तरह से दुश्मन के खेमे में जाकर लड़ता है, वो ये नहीं सोचता की मैं मरूंगा या बचूंगा। उसी प्रकार हमें भी निडर रहने का अभ्यास करना चाहिए।

एक दिन तो सभी को मरना है, तो हम रोज़ डर -डर के क्यों मरे। हम जितने दिन कोरोना वायरस से निडर रहकर बिता देतें हैं, उतने दिन समझिए, हमने सही मायने में इसे हरा दिया। बात फिल्मी लग रही होगी लेकिन, है काम की।

बोनस टिप. on Coronavirus

किसी भी चिंता का मुख्य कारण अटैचमेंट होता है. हमारा जिस चीज़ में ज्यादा अटैचमेंट होता है, उसकी चिंता हमें ज्यादा सताती है l मगर यहाँ पर विचार आता है की भाई , जान की बात है और जान तो सबको प्यारी होती है. ठीक है, हमारी जान हमें सबसे ज्यादा प्यारी है लेकिन जरा सोचें, चिंता करके क्या मिलता है ? चिंता करने से तो अनेक बीमारियां हमें आकर घेर लेती है. इसका एक और उपाय है। .. मैडिटेशन या ध्यान या भक्ति, आप जो भी नाम दें।

मैडिटेशन करने से क्या फायदा होता है ? मैडिटेशन हमारे मन के जो मुख्य काम है बार -बार सोचना, इसको कण्ट्रोल करता है l मैडिटेशन करने से चिंता कम होने लगती है। आप सुन रहे होंगे कि किस प्रकार आज कल कोरोना वायरस की टेंशन में लोग डिप्रेशन में आ रहे हैं। ऐसा इसलिए होरहा है कि वो लोग, इस बात को बार -बार सोच रहें है। यहाँ तक की आप में से जो लोग मैडिटेशन कर रहे होंगे वो किसी भी चिंता से जल्दी बहार निकल जाने की क्षमता रखते हैं l इस प्रकार हम कुछ सरल तरीकों से कोरोना वायरस की चिंता को काम कर सकतें है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top